तुम्हारे बग़ैर

रास्तों पर मोड़ हों
तो अच्छे लगते हैं रास्ते
तुम कहते थे.
गुज़र कर सैकड़ों मोड़ों से
आज भी याद है हमें
वो सारी बातें
जो तुम कहते थे.

सुंदर सी तुम्हारी आँखें
हो जाती थीं और भी सुंदर
संजों कर ख़ुद मेँ
ढेर सारे प्यारे-प्यारे सपने

भिगो देतीं थीं
भीतर तक तुम्हारी बातें
और मंत्रमुग्ध से हम
समेटते रहते
तुम्हारी बातें
अपनी बातों मेँ,
तुम्हारे सपने
अपने सपनों मेँ,
और तुम्हारी आँखें
अपनी आँखों मेँ.

आज जब तुम नही हो
आईना दिखाता सा लगता है
हर अकेलापन
और देखते रहतें हैं
जिसमे घंटों हम
अपनी ही आँखों मेँ
अब भी खिलते,
तुम्हारे ही सपने,
उनमें डूबी हुई सी
तुम्हारी गहरी आँखें.
घेर लेती हैं हर मोड़ पर
हमें तुम्हारी यादें.

तुम्हारे बाद, अब,
कुछ भी नही बदलता
किसी भी मोड़ पर
और अच्छा नही लगता
हमें ये रास्ता
तुम्हारे बग़ैर

Advertisements

9 thoughts on “तुम्हारे बग़ैर

  1. Tumhare is poem ko padhkar ek song yaad aa gayi….

    इस मोड़ से जाते हैं कुछ सुस्त कदम रास्ते
    कुछ तेज़ कदम राहें इस मोड़ से जाते हैं

  2. Fir ho wahi baten, fir ho wahi raten, shuru shuru ke pyar ka, fir se chalo, churaye dil yar ka. lovly poem! Very very soft exprsns. Like realy bein’ in lve akela chalna kaha kisi ko acha lagta hai yado ka bojh dil par rakhkar. Wo wali poem bhi rakho na samjhate hue ro padne wali. Th’ts cutie

  3. Mai hairan hun ki ap ko abhi tak maine parha nahi hai. Apki koi book publish huyi ho to nam batayiga aur kya ap kisi patrika me bhi likhte hain mai apki aur rachnaye parhna chahta hun

  4. Wah! Ravi yaar tum to gajab ka likhte ho pahle to kuchh ata hi nahi tha mujhe. tumhari ye kavita to bahut bahut bahut hi sundar hai.
    bahut sundar tarike se shabdon ka chayan kiya hai
    आईना दिखाता सा लगता है
    हर अकेलापन
    और देखते रहतें हैं
    जिसमे घंटों हम
    अपनी ही आँखों मेँ
    अब भी खिलते,
    तुम्हारे ही सपने,
    उनमें डूबी हुई सी
    तुम्हारी गहरी आँखें.
    घेर लेती हैं हर मोड़ पर
    हमें तुम्हारी यादें.

    तुम्हारे बाद, अब,
    कुछ भी नही बदलता
    किसी भी मोड़ पर
    और अच्छा नही लगता
    हमें ये रास्ता
    तुम्हारे बग़ैर

    aise jaise kisi ne man ki baat chhen kar kah di ho
    aise jaise kisi me man ko padh iya ho
    sab kuchh aisa jaise khud apna hi man kuchh kah raha ho

    kamal ka hai

  5. kya kahoon taarif ke liye alfaz nahi hain.
    ik nazm maine kahin padi thi wahi haazir hai…

    RAAT AUR INTAZAAR

    Raat bhar girti rahi

    ashk ki soorat shabnam

    raat bhar chalti rahi

    bheegi huei sard hawa

    narm podoan mein guzarti huwi

    madham madham,

    raat bharr chand sulagta raha

    holay holay

    chandni roti rahi

    meray dareechay say paray

    raat bhar raqs mein masroof thay

    khushboo kay qadam

    raat bhar main,

    meri maghmoom nigahein,

    meri yaas,

    teray aanay ki sarr-e-shaam lagi thi

    jo mujhay

    wohi damm torti aas,

    dill mein mehka huwa gham

    aur yeh palkein pur namm,

    meri maghmoom nigahein bekhwab

    raat bharr jaltay rahay

    apnay hi shoalon mein gulab!!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s